शनिवार, 18 दिसंबर 2010

ब्राह्मणों के बारे में कुछ जानने लायक तथ्य:

* ब्राह्मण समाज जनशंख्या के आधार पर भारत में दुसरे, एशिया में पांचवे और पूरी दुनिया में ग्यारहवे स्थान पर है.


* गुजरात के 70% और सम्पूर्ण भारत के 15% व्यवशायी ब्राह्मण हैं.

* ब्राह्मण समाज पूरी दुनिया में चौथे नंबर पर सबसे अमीर समाज है.

* भारत से विदेश जाने वाले समस्त लोगों में 35% लोग ब्राह्मण समाज के है.

* ब्राह्मण समाज लगभग 260 उपनाम (surname) उपयोग करता है,

रविवार, 3 अक्तूबर 2010

नवरात्रि पर्व

शक्ति की उपासना का पर्व शारदेय नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है. माँ भगवती को प्रसन्न करने का पवित्र पर्व जो नौ दिनों तक दुर्गा के नौ रूपों को समर्पित है, ८ अक्तूबर २०१० से प्रारम्भ हो रहा है. आएये हम सब मिल कर माँ का आशीर्वाद प्राप्त करें.

शनिवार, 4 सितंबर 2010

श्री गणेश जन्मोत्सव


प्रथम पूज्य श्री गणेश भगवान का जन्म सर्वत्र गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है. इस वर्ष गणपति हम सब के घरों में ११ सितम्बर २०१० (चतुर्थी) के दिन पधारेंगे. This year 'Ganesh Chaturthi' is to be celebrated on 11th September 2010. 
वक्र तुंड महाकाय सूर्य कोटि समप्रभ:|
निर्भिग्न्म कुरु में देवाय सर्व कार्येसु सर्वदा||  
सभी को हार्दिक बधाई..

शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

अगले वर्ष (२०११-१२) आयकर में छूट की उम्मीद

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने  व्यक्तिगत करदाताओं डायरेक्ट टैक्स कोड (डीटीसी)  में आयकर छूट सीमा  1.6 लाख रुपए से बढाकर  2 लाख  करने के प्रस्ताव को पारित कर दिया है. इसमे घर ऋण ब्याज भुगतान पर 1.5 लाख रुपये पर कर लाभ को बनाए रखा गया है और दीर्घकालिक बचत योजनाओं जैसे कि भविष्य निधि आदि पर भी कर मुक्त स्थिति को जारी रखा है. 


डीटीसी पुराने आयकर अधिनियम की जगह लेगा और देश में प्रत्यक्ष कर व्यवस्था का सरलीकरण  होगा. विधेयक सोमवार (३० अगस्त २०१०) को संसद में पेश किया जाएगा और दोनों सदनों की एक चयन समिति को भेजे जाने की संभावना है. 


सूत्रों ने यह भी बताया कि तीन स्लैब होने की संभावना है: 2-5 लाख आय के लिए 10 प्रतिशत, 5-10 लाख रुपये के लिए 20 प्रतिशत और 10 लाख से ऊपर की आय पर 30 प्रतिशत के हिसाब से आयकर लिया जायेगा. 
श्रोत: इंडियन एक्सप्रेस, भारत

सोमवार, 23 अगस्त 2010

Owe to protect on this Occasion of Raksha Bandhan

It has been said “If in a society women are not respected, it should be considered not better than a feral existence”. In Indian culture this aspect had long been recognized and thus iconic forms of creator, earth, country etc. are all feminine such as Prakruti, Dharti Mata, Bharat Mata etc. In general, Mother is paid high respect for being able to giving birth. 

Indian people are known for living relations like non others specially relations among siblings. All children of the same mother have a strong bonding among themselves as they have all shared the same bomb and thus known as brothers and sisters. Greater emphasis is laid on respecting all women other than wife like a mother or sister. The horizon of brotherhood gets further broadened when we see ourselves as sons and daughter of Bharat Mata (India). Raksha Bandhan is such an occasion which reminds us the strength of relations we cherish, It is not just a festival but a rejoinder of our commitment to save our relations and offer respect to our siblings. 

Belief in Indian culture helps to fight at least two sociological and psychological issues which are plaguing world the most.
  1. Loneliness: It is considered to be worst psychological disorder affecting the maximum number of people in the world. The root cause of the problem lies in not having any belief or depleting trust in our relations. If one considers him self or herself as children of mother earth then no body is alone. One needs to identify the saviour and tentacles of loneliness will be broken in no time. 
  2. Atrocities on Women: Almost all societies on earth are facing agony of atrocities on women/ girls which have resulted due to wild behavior demonstrated by some sick humans. We are fortunate to have been born with fully developed brain unlike animals, which suggests co-existence by formation of civilized societies. But still, there are some on this earth, who follow 'Dog eat Dog’ theory, and for them women are no more than a sex object. The acts of such people push back the sociological developments towards ancient uncivilized existence and if not curbed may cause termination of if not the total mankind but at least a few colonies on this earth. The problem of atrocities on women can be solved by being sensitive and respectful to our relations. 
We have bigger responsibility to not only protecting our own sisters but all women which are considered to be either mother or sister by virtue of all being children of mother earth. There is hardly any scope of preaching to wrong doers but we being intellectuals of modern world should take an oath on this auspicious occasion of Raksha Bandhan to protect not only our own sister but sisters of all others. Let us make sure that wrist of all brothers should not be empty on this Raksha Bandhan which is being celebrated on 24th August 2010.  

शुक्रवार, 13 अगस्त 2010

आदिगौड़ ब्राह्मण समाज की वेबसाइट


आप सभी के सहयोग और प्रोत्साहन से आदिगौड़ ब्राह्मण समाज की नयी वेबसाइट बनाने का निर्णय लिया है. नयी वेबसाईट www.aadigaur.com पर कुछ ही दिनों में आपकी सेवा में प्रस्तुत की जा रही है. 
आशा है आपका सहयोग बना रहेगा. 
If you are interested in helping in the noble cause, please contact at the email address.

रविवार, 8 अगस्त 2010

शरीर कैसे नष्ट होता है! अनुगीता में इसकी व्याख्या.

अनुगीता  संस्कृत महाकाव्य महाभारत, अश्वमेधिकापर्व का हिस्सा है. इसमे अर्जुन के साथ कृष्ण की बातचीत के उस समय का वर्णन है, जब कृष्ण पांडवों के लिए राज्य बहाल करने के बाद द्वारका में लौटने का फैसला किया. अनुगीता में मुख्य रूप से आत्मा के स्थानांतरगमन, मोक्ष प्राप्त करने का मतलब, गुणों और आश्रम, धर्म का वर्णन और तपस्या का प्रभाव आदि विषयों पर चर्चा सामिल है. इसके दुसरे अध्याय में शरीर कैसे नष्ट होता है, इसके वारे में व्याख्या इस प्रकार है.

काश्यप उवाच
कथं शरीरं च्यवते कथं चैवोपपद्यते।
कथं कष्टाच्च संसारात्संसरन्परिमुच्यते॥२॥
काश्यप बोले
शरीर कैसे नष्ट होता है तथा कैसे उत्पन्न होता है? और इस संसार में भ्रमण करते हुए किस प्रकार कष्टों से मुक्त होता है?

आत्मा प्रकृतिं मुक्त्वा तच्छरीरं विमुञ्चति।
शरीरतश्च निर्मुक्तः कथमन्यत्प्रपद्यते॥३॥
आत्मा किस प्रकार प्रकृति को त्यागकर उस शरीर से मुक्त होती है? और शरीर से निकलकर कैसे दूसरे शरीर को प्राप्त करती है?

कथं शुभाशुभे चायं कर्मणी स्वकृते नरः।
उपभुङ्क्ते क्व वा कर्म विदेहस्योपतिष्ठति॥४॥
किस प्रकार मनुष्य अपने द्वारा किये शुभ और अशुभ कर्मों को भोगता है? और शरीर छोड़ने के पश्चात् मनुष्य के कर्म कहाँ ठहरते हैं?

ब्राह्मण उवाच
एवं संचोदितः सिद्धः प्रश्नांस्तान्प्रत्यभाषत।
आनुपूर्व्येण वार्ष्णेय तन्मे निगदतः शृणु॥५॥
हे वार्ष्णेय! इस प्रकार पूछने पर उस सिद्ध ने यथाक्रम उन प्रश्नों का उत्तर दिया। वह बताते हुए मुझे सुनो।

सिद्ध उवाच
आयुःकीर्तिकराणीह यानि कर्माणि सेवते।
शरीरग्रहणे यस्मिंस्तेषु क्षीणेषु सर्वशः॥६॥
आयुःक्षयपरीतात्मा विपरीतानि सेवते।
बुद्धिर्व्यावर्तते चास्य विनाशे प्रत्युपस्थिते॥७॥
सिद्ध बोले
शरीर को ग्रहण करने पर मनुष्य आयु और यश प्रदान कराने वाले जिन कर्मों को भोगता है, उन कर्मों के सर्वथा क्षीण हो जाने पर, आयु-क्षय के समीप आने पर वह विपरीत प्रकार के कर्मों को भोगता है। विनाश के उपस्थित होने पर उसकी बुद्धि भी विपरीत दिशा में मुड़ जाती है।

सत्त्वं बलं कालं चाप्यविदित्वात्मनस्तथा।
अतिवेलमुपाश्नाति तैर्विरुद्धान्यनात्मवान्॥८॥
तथा प्रमादपूर्वक अपने सत्त्व, बल तथा काल को बिना जाने उनसे विरुद्ध आत्यधिक भोगों को भोगता है।

यदायमतिकष्टानि सर्वाण्युपनिषेवते।
अत्यर्थमपि वा भुङ्क्ते वा भुङ्क्ते कदाचन॥९॥
जब मनुष्य सभी अतिकष्टदायक कर्म करता है या फिर अत्यधिक भोजन करता है या फिर कभी भी भोजन नहीं करता है;

दुष्टान्नामिषपानं यदन्योन्यविरोधि च।
गुरु चाप्यमितं भुङ्क्ते नातिजीर्णेऽपि वा पुनः॥१०॥
जब यह दुष्ट अन्न या आमिष भोजन या मदिरा का सेवन करता है या ऐसे पदार्थों का सेवन करता है जो एक-दूसरे के विरोधि हैं या अत्याधिक भारी भोजन करता है या पिछले भोजन को बिना पचाये भोजन करता है;

व्यायाममतिमात्रं वा व्यवायं चोपसेवते।
सततं कर्मलोभाद्वा प्राप्तं वेगविधारणम्॥११॥
या जब अत्यधिक व्यायाम करता है या अत्यधिक काम का सेवन करता है या शरीर के मलत्याग की क्रियाओं को रोकता है;

रसातियुक्तमन्नं वा दिवास्वप्नं निषेवते।
अपक्वानागते काले स्वयं दोषान्प्रकोपयन्॥१२॥
या अत्यधिक रस से युक्त भोजन करता है या दिन में स्वप्न देखता है या बिना पके हुए भोजन का सेवन करता है, वह समय आने पर अपने शरीर के दोषों को (वात, पित्त और कफ) प्रकुपति कर देता है

स्वदोषकोपनाद्रोगं लभते मरणान्तिकम्।
अथ चोद्बन्धनादीनि परीतानि व्यवस्यति॥१३॥
आपने शरीर के दोषों के कोप से मृत्यु प्राप्त कराने वाले रोगों से ग्रसित हो जाता है अथवा अपने को फाँसी लगाने जैसे कार्यों में व्यवसित हो जाता है।

तस्य तैः कारणैर्जन्तोः शरीराच्च्यवते यथा।
जीवितं प्रोच्यमानं तद्यथावदुपधारय॥१४॥
इन कारणों से जन्तु के शरीर से जिस प्रकार जीवन का अलगाव होता है, उसे मेरे द्वारा बताते हुए यथावत समझो।

ऊष्मा प्रकुपितः काये तीव्रवायुसमीरितः।
शरीरमनुपर्येति सर्वान्प्राणान्रुणद्धि वै॥१५॥
तीव्र वायु के उकसाने पर कुपित ऊष्मा पूरे शरीर को व्याप्त करती है और सभी प्राणों को रोक देती है।

अत्यर्थं बलवानूष्मा शरीरे परिकोपितः।
भिनत्ति जीवस्थानानि तानि मर्माणि विद्धि च॥१६॥
शरीर में अत्याधिक कुपित ऊष्मा जीवस्थानों को भेद देती है। उन स्थानों को मर्म स्थान जानो।

ततः सवेदनः सद्यो जीवः प्रच्यवते क्षरात्।
शरीरं त्यजते जन्तुश्छिद्यमानेषु मर्मसु॥१७॥
तब कष्टपूर्वक जीवात्मा इस क्षर शरीर से अलग हो जाता है। मर्म स्थानों के छेदन होने पर जन्तु अपना शरीर त्याग देता है।

साभार संकलन,  

रविवार, 6 जून 2010

आदि गौड़ समाज का करोली में पहला सामूहिक विवाह सम्मेलन संपन्न.

गत दिनांक २७ मई २०१० को आदि गौड़ समाज का करोली में पहला सामूहिक विवाह सम्मेलन ३९ जोड़ो के विवाह के साथ संपन्न हुआ. हम सब की ओर से नवविवाहित एवं उनके परिवारों को सुभकामनाये और सम्मेलन को सफल बनाने में सहयोग देने वाले तथा अपनी उपस्थिती और आशीर्वाद देने वाले महानुभावों को धन्यवाद. (अधिक जानकारी और चित्रों के लिए Event पेज देखें).

मंगलवार, 16 मार्च 2010

वसंत नवरात्रि, उगादी और गुडी पडवा

 उगादी जिसे युगादी से भी जानते हैं, का मतलब है एक नए युग का प्रारंभ. इस वर्ष उगादी त्यौहार मनाया जा रहा है १६ मार्च २०१० के दिन. इस दिन विक्रमी संवत, सक संवत, सिन्धी नववर्ष तथा तेलगू और कन्नड़ नव वर्ष प्रारंभ होता है.


श्री विक्रम संवत - २०६७
राष्ट्रीय सक संवत - १९३२


इस त्यौहार को भारत में गुडी पडवा, उगादी (कर्णाटक और आंध्र प्रदेश), चेती चाँद (सिन्धी) आदि कई नामों से मानते हैं.


वसंत नवरात्रि (चैत्र नवरात्रि) पूजा भी आज के दिन से प्रारंभ होती है. आज के दिन से ही भगवान राम नवमी उत्सव प्रारंभ होता है. यह दोनों ही उत्सव राम नवमी (नौवे दिन) संपन्न होते हैं.  


समाज बंधुओं को सपरिवार बधाई. 

शनिवार, 6 मार्च 2010

धारण ही धर्म!


भारतवर्ष का मूलाधार 'आध्यात्म ' है, जो धर्म के रूप में भिन्न -भिन्न मान्यताओं एवं आस्थाओं के साथ जनमानस में व्याप्त है। इस संसार में, खास कर भारत वर्ष में सैंकड़ों धर्म है जिनके अपने अलग अलग विधान हैं।
धृ धारण पोषणयो:। धातु से मन प्रत्त्याय बन कर धर्म शब्द बना है,धर्म का अर्थ ही 'धारण' करना है।
भारत की संस्कृति आध्यात्म की सुध्र
स्थिति है, जो भारत के महान त्रिकालदर्शियों, ऋषि, मुनियों द्वारा स्थापित है जिन्होंने अपने दिव्य ज्ञान से अपने सिद्धांत स्थिर किए, जो सर्वथा सत्य और प्रामाणिक हैं।
इस संसार में सब कुछ एक नियम के अनुसार संपादित हो रहा है। पृथ्वी हो या आकाश, ग्रह -नक्षत्र, सूर्य -चंद्रमा, जल-वायु, जड़ -चेतन, जीवन-मृत्यु आदि सभी नियम के अनुरूप संपन्न हो रहे हैं, यही नियम वास्तविक धर्म है जिसे प्रत्येक जीवधारी स्वयं में धारण किए हुए है। प्रकृति के नियमों को बदला नही जा सकता। इसी नियम को संपादन करने वाली शक्ति ही 'ईश्वर' है। ईश्वर के इस नियम को प्रत्यक्ष देखने वाले विशिष्ट शक्ति संपन्न इश्वारानुग्रहित पुरूष का नाम ही 'ऋषि' है। इन्ही ऋषियों के दिव्य ज्ञान और अनुभवों के आधार पर ईश्वरीय प्रेरणा से आबद्ध सर्वविध कल्याण के लिए रचे सनातन नियम जो धर्म ग्रंथो में संगृहीत हैं वही 'शास्त्र' हैं, और यही प्रधान चार आधार स्तंभ हैं, जिसमे हमारे भारत की संस्कृति व्यवस्थित है। इसी ऋषि परम्परा को मानने वाला मानव स्वयं 'ऋषि पुत्र' है जिससे हमारा 'गोत्र 'बना है। इससे स्पष्ट हो जाता है कि हमारा जीवन अपने आप में कितना महत्वपूर्ण है। सूर्य और चंद्रमा में भेद करने वाला मानव क्या ये समझ पाया कि इसे व्यवस्थित रखने वाला आकाश एक है। सत्य तो यह है कि धर्म के नाम पर लोग आज सजग तो हैं पर सहज नही है। कोई भी धर्मशास्त्र बैर नही सिखाता। हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख हो या ईसाई, किसी धर्मशास्त्र में किसी भी दूसरे धर्म की बुराई नही लिखी है। इस संसार में ईश्वर ने मनुष्य को समान ही बनाया। केवल सत्य की राह में चलने और उस तक पहुचने के लिए ही महान ग्रंथो की रचना हुई।

साभार संकलन कई श्रोतों से

रविवार, 28 फ़रवरी 2010

होली के शुभ अवसर पर सभी समाज बंधुओं को हार्दिक शुभकामनायें।



होली के शुभ अवसर पर सभी समाज बंधुओंको हार्दिक शुभकामनायें. आइये हम सबअपने परिवार और समाज में रंग भरें।